इतिहास

ग्राम पंचायत दूल,
इस ग्राम पंचायत में तीन गाँव आते है! दूल को मिलाकर हेतपुर,हाँता, यह छोटी ग्राम पंचायत है! यह ग्राम पंचायत विकसित दिखती है! यहाँ छोटी बाजार लगती है, जो कि दूल बाजार के नाम से लगती है! इस ग्राम पंचायत के प्रधान हेतपुर गाँव मे रहते है! जिनका नाम डॉक्टर रामस्वरूप है! यह डॉक्टर भी रह चुके है! चूँकि यहाँ के प्रधान शिक्षित है अतः वह अपने गाँव का विकास समुचित ढंग से कर रहे है! जो सुभिधाएँ ग्रामों में नही है उन्हे भी वह अपने अनुसार कर रहे है! दूल गाँव का तो वैसे कोई खास इतिहास नही है! फिर भी यह ग्राम पंचायत एवं इसमें आने वाले गाँव वर्षो पुराने है! जिसके बारे मे किसी को ठीक से जानकारी नही है! क्योंकि अब पुराने बुजुर्ग कम ही रह गये है! और नये लोगो को अभी के बारे मे पता है! ही उन्होने अपने बुज़ुर्गो से इस विषय पर बात की कब इस गाँव या ग्राम पंचायत का उदय हुआ! यह शहर से लगभग 25 किलोमीटर दूरी पर है!

पंचायत मे आने वाले गाँव:-
दूल:- दूल गाँव मे छोटी मार्केट लगती है, जहा से गाँव के लोग अपनी ज़रूरत का समान खरीदते है! यहाँ तालाब भी है,जिसमे मछली भी है!
हेतपुर:- हेतपुर गाँव मे प्रधान जी का घर है! यहाँ पर कोई खास दुकान नही है! एक-दो दुकाने है! यहाँ के लोग कृषि का कार्य ही करते है!
हाँता:- इस गाँव मे राधा-कृष्णा का मंदिर है, जो की पन्द्र्ह वर्ष पुराना है! छोटी संख्या और छोटी बस्ती है!  जिसमे भीमराव अंबेडकर जी की मूर्ति लगी हुई है!